Nabard Subsidy Yojana

Nabard Subsidy Yojana,Dairy Farming Nabard Subsidy Yojana 2020

नाबार्ड सब्सिडी योजना से डेयरी फार्मिंग का काम स्टार्ट कर सकते हैं ! जहां एक तरफ दिन पर दिन बेरोजगारी बढ़ रही है वाही सरकार रोजगार उपलब्ध कराने के लिए नई स्कीम ला रही है ! Nabard Subsidy Yojana के तहत डेयरी फार्मिंग योजना स्टार्ट की गई है ! रोजगार को बढ़ावा देने के लिए सरकार पशुपालन पोल्ट्री के लिए सरकार द्वारा डेयरी फार्मिंग योजना को स्टार्ट किया गया है ! यदि आप Dairy Farming Nabard Subsidy Yojana 2020 चालू करना चाहते हैं ! तो इसके लिए आवेदन कैसे करना है ,एलिजिबिलिटी क्या है ,सब्सिडी कितनी मिलती है ! सभी जानकारी हम आपको मुहैया कराने वाले हैं !

डेयरी उद्यमिता विकास योजना (डीईडीएस )

पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन विभाग भारत सरकार, ने वर्ष 2005-06 के दौरान ! “डेयरी और पोल्ट्री के लिए वेंचर कैपिटल योजना” शीर्षक से एक पायलट योजना का शुभारंभ किया है ! इस योजना का मुख्य उद्देश्य छोटे डेयरी फार्मों की स्थापना ! और अन्य घटकों हेतु सहायता प्रदान कर डेयरी क्षेत्र में संरचनात्मक परिवर्तन लाना था ! संशोधित योजना दिनांक 01 सितंबर 2010 से लागू हो गया है.

Nabard Scheme 2020 New Update

नाबार्ड योजना 2020 के तहत वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी ने ,कोरोना की वजह से 30,000 करोड़ों रूपए की अतिरिक्त सहायता देने का फैसला किया है ! यह रकम 90 हजार करोड़ रुपए के अलावा है ! इस योजना के तहत यह पैसा को ऑपरेटिव बैंक के जरिए सरकारों को दिया जाएगा ! इसका फायदा देश के 3 करोड़ किसानों को होगा !

डेयरी फार्मिंग योजना 2020 क्या है ?

यदि आप गांव में रहते हैं और बेरोजगार हैं , तो आप नाबार्ड डेयरी सब्सिडी योजना से अपने काम को आगे बढ़ा सकते हैं ! सरकार रोजगार को बढ़ावा देने के लिए ग्रामीण इलाकों पर ज्यादा ध्यान दे रही है ! डेयरी फार्मिंग स्कीम (Nabard Scheme 2020) गांव में बेहतर तरीके से चलाई जा सकती है ! इसके लिए सरकार योजना के तहत डेयरी फार्म (दूध डेरी कैसे खोले ) की स्थापना करवाएगी ! गाय या भैंस की देखरेख तथा डेयरी फार्म में आवश्यक मशीनों को भी प्रदान करेगी ! देश का कोई भी उम्मीदवार यदि डेरी फार्मिंग नाबार्ड के तहत प्लांट लगाता है ! तो उसे इस स्कीम में आवेदन करना होता है !

नाबार्ड डेयरी योजना 2020 बैंक सब्सिडी

  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत दुग्ध उत्पाद (मिल्‍क प्रोडक्‍ट) बनाने की यूनिट शुरू करने के लिए भी सब्सिडी दी जाती है !
  • नाबार्ड डेयरी योजना 2020 के तहत आप दुग्ध उत्पाद की प्रोसेसिंग के लिए उपकरण खरीद सकते हैं !
  • यदि आप मिल्क प्रोसेसिंग मशीन परचेज करते हैं , तो आपको 25 केजी चैप्टर सब्सिडी मिलती है !
  • एससी /एसटी कैटेगरी से बिलॉन्ग करते हैं ,तो यह सब्सिडी 30 परसेंट मिलती है !
  • यदि आप इस योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं ! तो आप सीधा बैंक से संपर्क करें !
  • यदि आप 5 गायों को लेकर डेयरी शुरू करना चाहते हैं ! तो सरकार लगभग 50 परसेंट सब्सिडी प्रदान करती है ! बची हुई राशि किसान को अलग-अलग किस्तों में देना पड़ता है !

डेयरी फार्मिंग नाबार्ड सब्सिडी योजना के लिए योग्यता (Eligibility for Nabard Subsidy Scheme for Dairy Farming)

  • किसान व्यक्तिगत उद्यमी असंगठित और संगठित क्षेत्र का समूह हो !
  • फार्मिंग डेयरी नाबार्ड योजना (Dairy Farming Nabard Subsidy Yojana 2020) का लाभ एक आवेदक एक बार ही उठा सकेगा !
  • एक ही क्षेत्र में स्थित दो फार्मों के बीच की दूरी कम से कम 500 मीटर होना आवश्यक है !

योजना का उद्देश्य

  • स्वच्छ दूध उत्पादन के लिए आधुनिक डेयरी फार्मों की स्थापना को बढ़ावा देना !
  • बछिया बछड़ा पालन को प्रोत्साहित करना जिससे अच्छे प्रजनन स्टॉक का संरक्षण किया जा सके !
  • असंगठित क्षेत्र में संरचनात्मक परिवर्तन लाना, जिससे कि दूध का प्रारंभिक प्रसंस्करण गांव स्तर पर ही किया जा सके !
  • व्यावसायिक पैमाने पर दूध संरक्षण के लिए गुणवत्ता और पारंपरिक प्रौद्योगिकी का उन्नयन !
  • मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र के लिए स्व-रोजगार पैदा करना तथा बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराना !

योजना का लाभ किसको मिल सकता है ?

  • किसान, व्यक्तिगत उद्यमी, गैर सरकारी संगठन , कंपनियां , असंगठित और संगठित क्षेत्र के समूह इत्यादि ! संगठित क्षेत्र के समूह में स्वयं सहायता समूह (एसएचजी), डेयरी सहकारी समितियां , दूध संगठन , दूध महासंघ आदि शामिल हैं !
  • एक व्यक्ति इस योजना के तहत सभी घटकों के लिए सहायता ले सकता है लेकिन प्रत्येक घटक के लिए केवल एक बार ही पात्र होगा !
  • योजना के तहत एक ही परिवार के एक से अधिक सदस्य को सहायता प्रदान की जा सकती है ! बशर्ते कि इस योजना के अंतर्गत वे अलग-अलग स्थानों पर अलग बुनियादी सुविधाओं के साथ अलग इकाइयां स्थापित करें !
  • इस तरह की दो परियोजनाओं की चहारदीवारी के बीच की दूरी कम से कम 500 मीटर होनी चाहिए !

डेयरी फार्मिंग स्कीम (Dairy Farming Nabard Yojana 2020)

1. संकर गायों / साहीवाल, लाल सिंधी, गिर, राठी आदि जैसे स्वदेशी विवरण दुधारू गायों / श्रेणीबद्ध भैंस 10 पशुओं के लिए छोटे डेयरी इकाइयों को बढ़ने के साथ स्थापना !

निवेश: 10 जानवरों की यूनिट के लिए 5.00 लाख रुपये : न्यूनतम इकाई का आकार 2 और अधिकतम 10 जानवरों की सीमा के साथ है !

सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33 .33%,) के 25% से 10 जानवरों की एक यूनिट के लिए 1.25 लाख रुपये की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी विषय (अनुसूचित जाति के लिए 1.67 लाख रुपये / अनुसूचित जनजाति के किसानों,) ! अधिकतम अनुमेय पूंजी सब्सिडी 25000 रुपये 2 पशु इकाई के लिए (अनुसूचित जाति के लिए 33,300 रुपये / अनुसूचित जनजाति के किसानों) है ! सब्सिडी इकाई आकार के आधार पर एक यथानुपात आधार पर प्रतिबंधित किया जाएगा !

2. बछिया बछड़ों के पालन – 20 बछड़ों के लिए ऊपर : पार नस्ल, स्वदेशी मवेशियों और वर्गीकृत भैंसों दुधारू नस्लों का विवरण

निवेश : 20 बछड़ों इकाइयों के लिए 80 लाख – 5 बछड़ों के न्यूनतम इकाई आकार और 20 बछड़ों की अधिकतम सीमा के साथ !

सब्सिडी : 20 बछड़ों तक की यूनिट खोलने के लिए 25% तक की सब्सिडी दी जाएगी ! यह सब्सिडी ₹1,25,000/- तक की पूंजी पर दी जाएगी| वही SC/ST कैटेगरी के लोगों को ₹1,60,000/- तक की पूंजी मिल जाएगी| कैटेगरी के लोगों को सब्सिडी में 33.33% तक मिल जाएंगे ! राशि के हिसाब से अधिकतम ₹30,000/- की सब्सिडी, 5 बछड़े की यूनिट खोलने पर दी जाएगी| वही कैटेगरी के लोगों के लिए यह सब्सिडी राशि ₹40,000/- तय की गई है !

3. वर्मीकम्पोस्ट (दुधारू पशु यूनिट के साथ अलग से नहीं दुधारू पशुओं के साथ विचार किया जा छेनी और) !

निवेश: 20,000 / -रु !
सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% या 5,000 रुपये की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी विषय – (रुपये 6700 / – अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए) !

4. दूध परीक्षकों/ दूध निकालने की मशीनों पर खरीद/ अधिक मात्रा में दूध होने पर उसे ठंडा रखने के लिए फ्रिज (जिसकी क्षमता 2000 लीटर तक हो) !

निवेश : इसमें व्यक्ति को 18 लाख रुपए तक का निवेश करना होगा !

सब्सिडी: 4.50 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 6.00 लाख रुपये) की पूँजी सब्सिडी के तहत व्यय का 25% (अनुसूचित जातियों / अनुसूचित जनजाति किसानों के लिए 33.33%) !

5. स्वदेशी दूध उत्पादों का निर्माण करने के लिए डेयरी प्रसंस्करण के उपकरण की खरीद !

निवेश: 12 लाख रुपये
सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% 3.00 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 4.00 लाख रुपये) की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन !

6. डेयरी उत्पाद परिवहन सुविधाएँ और शीत श्रृंखला स्थापना !

निवेश : इस योजना को शुरू करने के लिए देश के लोगो को न्यूनतम राशि 24 लाख रुपये की आवश्यकता होगी !

सब्सिडी : परियोजना में निवेश करने के लिए सरकार द्वारा अधिकतम ₹7,50,000/- तक का लोन दिलाया जाएगा ! इस लोन पर व्यक्ति को 25% की सब्सिडी मिलेगी| SC/ST जाति से संबंध रखने वाले व्यक्तियों को 10 लाख रुपए तक का लोन मिल जाएगा| जिस पर उन्हें 33.33% की सब्सिडी भी मिलेगी !

7. दूध और दूध उत्पादों के लिए कोल्ड स्टोरेज की सुविधा !

निवेश: 30 लाख रुपये !
सब्सिडी: परिव्यय (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 33.33%) के 25% 7.50 लाख रुपये (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के किसानों के लिए 10.00 लाख रुपये) की सीमा के रूप में वापस समाप्त पूंजी सब्सिडी अधीन !

Nabard Subsidy Yojana Apply

  • डेरी फॉर्म खोलना चाहते हैं तो आपके पहले यह निश्चित करना होगा !कि किस कैटिगरी का आप डेरी फॉर्म खोलना चाहते हैं !
  • इसके लिए आपको अपने जिले के नाबार्ड ऑफिस में जाकर संपर्क करना होगा !
  • यदि आप छोटा डेरी खोलते हैं , तो आपको अपने नजदीकी बैंक में जाकर इसकी जानकारी लेनी होगी !
  • बैंक में आपको सब्सिडी फॉर्म वा आवेदन फॉर्म अप्लाई करना होगा !
  • यदि आप बड़ा डेरी फॉर्म खोलना चाहते हैं , तो नाबार्ड को देवी की प्रोजेक्ट रिपोर्ट भी जमा करनी होती है !

Disclaimer: एस वेबसाइट पर दी गयी सभी जानकारी सोशल मीडिया एवं अन्य मीडिया सोर्सेज से प्राप्त जानकारी के आधार पर दी गयी है ! योजना की पूर्ण जानकारी के लिए आप विभाग की आधिकारिक वेबसाइट अवश्य जाये !

Previous Article
Next Article

5 Replies to “Nabard Subsidy Yojana”

Leave a Reply

Your email address will not be published.