kisan e-nam portal

what is kisan e-nam portal

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (pm e-nam yojana) किसानो के लिए सबसे बड़ी समस्या का हल निकाला है ! किसानों की सबसे बड़ी समस्या यह होती है , कि वह

फसल का उत्पादन तो कर लेते हैं ! लेकिन उसको कहां पर बेचे यह उनके सामने एक सवाल होता है ! हालांकि अभी तक किसानों की फसलें बिचौलियों को द्वारा खरीद कर बेची जाती थी ! लेकिन पीएम मोदी ने इस समस्या का समाधान करते हुए kisan e-nam portal की शुरुआत की हैं ! ई-नाम (e-nam)एक तरह की ऑनलाइन राष्ट्रीय कृषि बाजार है ! जहां देश का कोई भी किसान देश में कहीं पर भी अपनी फसल को ऑनलाइन घर बैठे बेच सकता है ! उसका भुगतान अपने बैंक खाते में प् सकता है !

kisan-e-name-portal
kisan-e-name-portal

यह भी पढ़े : खोले पोस्ट ऑफिस फ्रैंचाइज़ी

“राष्ट्रीय कृषि बाजार /national agriculture market(ई-नाम) एक अखिल भारतीय इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है ! जो कृषि उत्पादों के लिए एकीकृत राष्ट्रीय बाजार बनाने हेतु मौजूदा एपीएमसी मंडियों को ऑनलाइन नेटवर्क से जोडता है ! लघु कृषक कृषि व्यापार संघ (एसएफएसी) भारत सरकार के कृषि ! और किसान कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत ई-नाम को लागू करने के लिए प्रमुख एजेंसी है !”

क्या है e-Nam

1. किसान की फसलों को ऑनलाइन बिकवाने के लिए देशभर में कृषि मंडी -ई मंडी (kisan e-nam portal
)की शुरुआत की ! जिसको हम राष्ट्रीय कृषि बाजार (national agriculture market) कहते हैं !
2. इसकी शुरुआत 14 अप्रैल, 2016 को की गई थी ! e-Nam के तहत रजिस्टर्ड होकर किसान अपनी उपज अच्छी कीमत पर कहीं भी बेच सकते हैं !
3.अब वे बिचौलियों और आढ़तियों पर निर्भर नहीं हैं ! सरकार ने अब तक देश की 585 मंडियों को ई-नाम के तहत जोड़ा है !

यह भी पढ़े : प्रति महीना मिलेगा 3500 रु बेरोजगारी भत्ता

4. देशभर में करीब 2,700 कृषि उपज मंडियां और 4,000 उप-बाजार हैं ! पहले कृषि उपज मंडी समितियों के भीतर या एक ही राज्य की दो मंडियो में कारोबार होता था ! हाल ही में पहली बार दो राज्यों की अलग-अलग मंडियो के बीच ई-नाम से व्यापार किया गया !
5. केंद्रीय कृषि मंत्रालय के तहत काम करने वाला ‘लघु कृषक कृषि व्यापार संघ’ (एसएफएसी) ई-नाम को लागू करने वाली सबसे बड़ी संस्था है ! सरकार की योजना इस साल 200 एवं अगले साल 215 और मंडियों को इससे जोड़ने की है !

यह भी पढ़े : घर के नक़्शे 3D में दिखने के लिए यंहा क्लिक करे

ई-नाम और मौजूदा मंडी प्रणाली में क्या अंतर है

ई-नाम (kisan e-nam portal) एक समानांतर विपणन संरचना नहीं है, बल्कि भौतिक मंडियों का एक राष्ट्रीय नेटवर्क बनाने के लिए एक उपकरण है ! जिसे ऑनलाइन एक्सेस किया जा सकता है ! यह एक ऑनलाइन ट्रेडिंग पोर्टल के माध्यम से मंडियों के भौतिक बुनियादी ढांचे का लाभ उठाना चाहता है ! जिससे स्थानीय स्तर पर व्यापार में भाग लेने के लिए मंडी / राज्य के बाहर स्थित खरीदारों को भी सक्षम किया जा सके !

How to work kisan e-nam portal

ई-नाम इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म (kisan e-nam portal) भारत सरकार द्वारा (कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के माध्यम से) एक निवेश के साथ बनाया गया है ! यह राज्य में मौजूद किसी भी बाजार यार्ड (चाहे विनियमित या निजी) में “प्लग-इन” प्रदान करता है ! ई-नाम के लिए विकसित विशेष सॉफ्टवेयर प्रत्येक मंडी के लिए उपलब्ध है ! जो प्रत्येक राज्य मंडी अधिनियम के नियमों के अनुरूप आवश्यक अनुकूलन के साथ राष्ट्रीय नेटवर्क में शामिल होने के लिए सहमत है !

क्या ई-नाम में शामिल होने के लिए कोई शर्तें हैं?

ई-नाम (e-Nam) के साथ अपनी मंडियों को एकीकृत करने के लिए इच्छुक राज्यों को अपने एपीएमसी अधिनियम में तीन सुधारों का पालन करना आवश्यक है !

1. राज्य भर में वैध होने के लिए एकल व्यापार लाइसेंस (एकीकृत) !
2. राज्य भर में बाजार शुल्क का एकल बिंदु लेवी !
3. मूल्य खोज के एक मोड के रूप में ई-नीलामी / ई-ट्रेडिंग के लिए प्रावधान !

वास्तव में ई-नाम प्लेटफॉर्म का संचालन कौन करेगा

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार ने लघु कृषक कृषि व्यापार संघ को ई-नाम (pm e-Nam scheme) की लीड कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में नियुक्त किया है ! एसअफएसी एक रणनीतिक साझेदार की मदद से ई-नाम का संचालन और रखरखाव करेगा !

How to register in kisan e-nam portal online

1. उपयोगकर्ता www.enam.gov.in पर क्लिक करके पंजीकरण कर सकते हैं www.enam.gov.in !
2. या पंजीकरण पृष्ठ में http://enam.gov.in/NAM/home/other_register.html पर जाएं !
3. पंजीकरण प्रकार का चयन “किसान” के रूप में करें और वांछित “एपीएमसी” का चयन करें !
4. अपना सही ईमेल आईडी प्रदान करें क्योंकि आपको उसी में लॉगिन आईडी और पासवर्ड प्राप्त होगा !
5. एक बार सफलतापूर्वक पंजीकृत होने के बाद आपको दिए गए ई-मेल में एक अस्थायी लॉगिन आईडी और पासवर्ड प्राप्त होगा !

6. सिस्टम के माध्यम से www.enam.gov.in पर आइकन पर क्लिक करके डैशबोर्ड में प्रवेश करें !
7. डैशबोर्ड पर उपयोगकर्ता को एक चमकता संदेश मिलेगा ! जैसे: “एपीएमसी के साथ पंजीकरण करने के लिए यहां क्लिक करें” ! ”.
8. विवरण भरने / अद्यतन करने के लिए आप पंजीकरण पृष्ठ पर फ्लैश करने वाले लिंक पर क्लिक करें !
9. केवाईसी पूरा होने के बाद इसे आपके चयनित एपीएमसी को अनुमोदन के लिए भेजा जाएगा !
10. अपने डैशबोर्ड में सफल लॉगिन के बाद आप सभी एपीएमसी का पता विवरण देख पाएंगे !

11. सफल लॉगिन के बाद यूज़र को एक ई-मेल प्राप्त होगा ! जो संबंधित एपीएमसी को एप्लिकेशन सबमिट करने की पुष्टि करते हुए आवेदन की स्थिति के साथ सबमिशन / इन-प्रोग्रेस-रिजेक्टेड-रिजेक्टेड हो जाएगा !
12. एपीएमसी द्वारा अनुमोदित किए जाने के बाद !आपको पंजीकृत ई-मेल आईडी पर ई-नाम प्लेटफॉर्म पर पूर्ण पहुँच के लिए ई-नाम किसान स्थायी लॉगिन आईडी (उदा: HR866F00001) और पासवर्ड प्राप्त होगा !
13. या आप उसी के लिए अपने संबंधित मंडी / एपीएमसी से संपर्क कर सकते हैं !

महत्वपूर्ण जानकारियां :

Previous Article
Next Article

2 Replies to “kisan e-nam portal”

Leave a Reply

Your email address will not be published.